header-logo3.png

बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing)

Share Now:

छींक सभी लोगों को आती है। अगर आपको एक या दो छींक आती है तो सामान्य बात मानी जाती है, लेकिन अगर छींक बार-बार आने लगे, या लगातार छींक आने लगे तो यह परेशानी बन जाती है। बार-बार छींक आने से व्यक्ति परेशान एवं चिड़चिड़ा हो जाता है। छींक के कारण कई लोगों को सिर में दर्द भी होने लगता है। अगर आप भी लगातार छींक आने से परेशान हैं तो छींक को रोकने का घरेलू उपचार कर सकते हैं।आयुर्वेद के अनुसार, छींक आना कई बीमारियों के लक्षण भी हो सकते हैं। छींक द्वारा नाक व गले के अन्दर से दूषित पदार्थ बाहर निकलता है। यह शरीर को एलर्जी से बचाने की स्वभाविक प्रक्रिया है, लेकिन अगर किसी व्यक्ति को बहुत जल्दी-जल्दी छींक आती है तो यह व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी को दर्शाता है। इसलिए आप छींक से जुड़ी सभी जानकारी जान लें, ताकि ऐसी परेशानी आने पर घरेलू उपचार कर अपने आप को स्वस्थ बना सकें।

छींक आना क्या है? (What is Sneezing in Hindi?)

नाक में म्यूकस झिल्ली होती है, जिसके उत्तक और कोशिकाएं बहुत संवेदनशील होते हैं, इसलिए किसी भी प्रकार के बाहरी उत्तेजक वस्तु या तेज गन्ध के सम्पर्क में आने से छींक आती है। जब कोई बाहरी कण जैसे धूल आपकी नाक में घुस जाता है, तो नाक में गुदगुदी होती है, और मस्तिष्क के एक विशेष भाग में सन्देश जाता है। इसके बाद मस्तिष्क मांसपेशियों को बाहरी कण को बाहर निकालने का संदेश देती हैं। इससे छींक आती है। यह कण मुँह और नाक के दरवाजे से तेज रफ्तार से बाहर आते हैं।

छींक आने के कारण (Sneezing Causes)

छींक आने के ये कारण हो सकते हैंः-

  • धूल, धुँआ एवं तेज गन्ध के सम्पर्क में आने से नाक के भीतर की म्यूकस झिल्ली उत्तेजित हो जाती है, इससे छींक आती है।
  • प्रदूषण युक्त वातावरण में रहने से।
  • सर्दी या जुकाम होने पर छींक आती है, क्योंकि सर्दी-जुकाम होने पर नाक के अन्दर की म्यूकस झिल्ली में सूजन आ जाती है।
  • एलर्जी से ग्रस्त रोगियों में पराग कणों के सम्पर्क में आने की वजह से।
  • किसी दवा के रिएक्शन के कारण छींक की समस्या हो सकती है।
  • एक गिलास पानी में एक चम्मच अजवाइन डालकर उबालें। गुनगुना होने पर छान लें। इसमें शहद मिलाकर पिएँ।
  • 10 ग्राम अजवाइन और 40 ग्राम पुराने गुड़ को 450 मि.ली. पानी में उबालें। जब आधा पानी रह जाए, तो पानी को ठण्डा होने पर पी लें। इसके बाद हवारहित स्थान पर आराम करें।

छींक की समस्या में मुलेठी से फायदा (Mulethi: Home Remedies for Sneezing Treatment in Hindi)

मुलेठी के चूर्ण को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इसका भाप लें। मुलेठी का प्रयोग छींक की परेशानी में लाभदायक साबित होती है।


बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing) Videos


Home Remedies for Sneezing


बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing) Photos


Home Remedies for Sneezing